Saturday, 7 May 2011

मेरा जूनून / Mera Junoon - Ghazal


कई चाहतें, कई आरज़ू
मैं ये सोचता हूँ किसे चुनूं

तू प्यार है मेरा मगर
है कुछ और ही मेरा जूनून
कई चाहतें, कई आरज़ू
मैं ये सोचता हूँ किसे चुनूं

तू मेरा सनम, वो मेरा खुदा
किस के नाम का सजदा करूँ
कई चाहतें, कई आरज़ू
मैं ये सोचता हूँ किसे चुनूं

तुझे पा लिया, तेरा फज्ल है
पर है कहाँ मुझ को सुकून 
कई चाहतें, कई आरज़ू
मैं ये सोचता हूँ किसे चुनूं

तेरी याद है हर पल मगर
मैं उस को कैसे भुला सकूं
कई चाहतें, कई आरज़ू
मैं ये सोचता हूँ किसे चुनूं

तू हूर है, वो गरूर है
'राही' बता मैं क्या करूँ
कई चाहतें, कई आरज़ू
मैं ये सोचता हूँ किसे चुनूं

 -------------------------------------------------------------------------------------------------------

kayi chaahtein , kayi aarzoo
main ye sochta hun kise chunoon. 

tu pyar hai mera magar
hai kuch aur hi mera junoon.
kayi chaahtein, kayi aarzoo
main ye sochta hun kise chunoon. 

tu mera sanam, woh mera khuda
kis ke naam ka sajda karun
kayi chaahtein, kayi aarzoo
main ye sochta hun kise chunoon. 

tujhe paa liya, tera fazl hai 
par hai kahan mujhko sukoon
kayi chaahtein, kayi aarzoo 
main ye sochta hun kise chunoon. 

teri yaad hai har pal magar
main us ko kaise bhula sakoon
kayi chaahtein kayi aarzoo
main ye sochta hun kise chunoon. 

tu hoor hai, woh garoor hai
'Raahi' bata main kya karun / 'Raahi' bata main kahan chalun.
kayi chaahtein kayi aarzoo
main ye sochta hun kise chunoon

No comments:

Post a Comment