Thursday, 29 July 2010

शहर | shehar

सर-ए-साल है खिज़ां* अब ज़माने में
रोज़ आतिश बरसते हैं आसमानों से!

वो बात और है, उठता है धुआं रातों में
मगर चूल्हे नहीं जलते अब आशियानों में!

हमें गुरूर है, अपनी अपनी कारोबारी पे
चले हैं बेचने खुदको, भरे बाज़ारों में!

अब जुदा रूह है राही, यहाँ इंसानों से
झुके हुए हैं सभी सिर, शहर-ओ-शमशानों में!

सर-ए-साल है खिज़ां अब ज़माने में

रोज़ आतिश बरसते हैं आसमानों से!

*खिज़ां/khizan - rainy season/ season between summer and winters.
-------------------------------------------------------------
 
sar-e-saal hai khizan ab zamane mein
roz aatish baraste hain aasmaanon se !
 
wo baat aur hai, uthta hai dhuan raaton mein
magar choolhe nahi jalte ab aashiyanon mein!
 
humein guroor hai, apni apni kaarobaari pe
chale hain bechne khudko, bhare bazaron mein!
 
ab juda rooh hai raahi, yahan insaanon se
jhuke hue hain sabhi sir, shehar-o-shamshaanon mein !

sar-e-saal hai khizan ab zamane mein

roz aatish baraste hain aasmaanon se !



1 comment:

  1. हमें गुरूर है, अपनी अपनी कारोबारी पे
    चले हैं बेचने खुदको, भरे बाज़ारों में!

    mashallah!!!very nice!!!!keep it up!!!

    u r one of d brightest and most realistic poet of the era!!!

    nitish.....

    ReplyDelete