Thursday, 22 July 2010

Ghazal | ग़ज़ल

तेरी आँखों में बसे ख्वाब में देखा मैंने
वो आशियाँ नाकाबिज़ सरे तूफानों में !!

बंद होठों में दबी बेबसी सुनी मैंने
सुर्ख लब-ए-ख़ामोश के अफसानों में !!

सूखें अश्कों में लिखे ख़त को पढ़ा मैंने
अब मोहब्बत ना मुकम्मल इस ज़माने में !!

तेरे सजदे में झुका सिर की दुआ मैंने
ऐ खुदाया मांगे 'राही' मदद मर जाने में !!

वो आशियाँ नाकाबिज़ सरे तूफानों में !!
---------------------------------------------------------------------

teri aankhon mein base khwab mein dekha maine
wo aashiyan naa kabiz sare toofanon mein!

band hothon mein dabi bebasi suni maine
surkh lab-e-khamosh ke afsaanon mein!

sookhe ashkon mein likhe khat ko padha maine
ab mohabbat na mukammal is zamane mein!

tere sajde mein jhuka sir kee dua maine
ae khudaya maange 'raahi' madad mar jaane mein!!

ae khudaya maange 'raahi' madad mar jaane mein!!

5 comments:

  1. वो आशियाँ नाकाबिज़ सरे तूफानों में

    very nice!! bahut mature writing hai...
    and apka kaam bhi quality-wise improve hote ja raha hai. really nice

    -neha

    ReplyDelete
  2. kya baat hai, what coems from the heart goes to the heart ;)
    good going and treat is due

    Siddharth Pandey

    ReplyDelete
  3. heart touching.... vry nice!!!

    -Joshika

    ReplyDelete
  4. तेरे सजदे में झुका सिर की दुआ मैंने
    ऐ खुदाया मांगे 'राही' मदद मर जाने में !!

    very nice

    ReplyDelete