Sunday, 20 June 2010

ग़ज़ल | Ghazal - Khushi

कितने तुम खुदगर्ज़ राही, नामुकम्मल हसरतें तो
नाख़ुदा तो नाख़ुदा था, अब ख़ुदा भी कुछ नहीं !!

तुमने क्या खुदको दिया, जो उठ गया दस्त-ए-दुआ
उम्र भर सज़दा किया, पर कोई ज़हमत ना करी !!

क्यूँ करे शिकवा गिला, खींचले लकीरें नयी
तेरी ही तो हाथ में, तकदीर लिखी है तेरी !!

दर्द से ना भाग राही, तूफ़ान दिल में बाँध लो
दर्द-ओ-ग़म, रंज-ओ-गुस्सा, मंजिल-ए-राहें सभी !!

चराग लेकर फ़िर रहे, तुम जहाँ में खोजते हो
अपने अन्दर झाँक लो, तुम में ही है वो ख़ुशी !!

तेरे ही तो हाथ  में, तकदीर लिखी है तेरी !

-------------------------------------------------------------------------

kitne tum khudgarz raahi, namukammal hasratein to
nakhuda to nakhuda tha, ab khuda bhi kuch nahi !!

tumne kya khudko diya, jo uth gaya dast-e-dua
umr bhar sajda kiya, par koi zehmat na kari !!

kyun kare shikwa gila, kheenchle lakeerein nayi
tere hi toh haath mein, taqdeer likhi hai teri !!

dard se na bhaag raahi, toofan dil mein baandh lo
dard-o-gham,ranj-o-gussa, manzil-e-raahein sabhi !!

charag lekar phir rahe, tum jahan mein khojte ho
apne andar jhaank lo, tum mein hi hai woh khushi !!

tere hi toh haath mein, taqdeer likhi hai teri !