Thursday, 29 April 2010

Zindagi | ज़िन्दगी :)

Used this poem in one the short stories. Completed it. Modified and writing it down :) (हिंदी में पहले और english is followed .)

ओ ज़िन्दगी इस दिल तले, सवाल हैं कई अनकहे
जवाब तेरे पास हैं, पर वक़्त कि दरकार है
एक लम्हा भी मिले, तुझसे मैं ये पूछ्लूं
तू कौन है, मैं कौन हूँ!
तू कौन है, मैं कौन हूँ!

कोई क्या सिखाएगा, कोई क्या बताएगा
क्या किताबों का लिखा , कोई साथ लेकर जायेगा
एक कदम जो तू चले, तेरे साथ मैं चलूँ
तू कौन है, मैं कौन हूँ!
तू कौन है, मैं कौन हूँ!

एक पल मैं हंसा, एक पल मैं रो लिया
कुछ पलों का साथ था, और फिर तनहाइयाँ
कोई भी ऐहसास हो, तुझसे मेरी गुफ्तगू
तू कौन है, मैं कौन हूँ!
तू कौन है, मैं कौन हूँ!

ता उम्र मैं दौड़ा किया, चाँद सिक्कों के लिए
कुछ यूँ हुआ वोह मिल गया, जाने क्या मेरा खो गया
अब तेरी तलाश में, हूँ भटकता कू-ब-कू
तू कौन है, मैं कौन हूँ!
तू कौन है, मैं कौन हूँ!

अब कहाँ ये दिल मेरा, ख्वाब कोई देखता
अब कहाँ नज़रें मेरीं, आसमा को ताकतीं
कुछ मिले या न मिले, बस जानने की आरज़ू
तू कौन है, मैं कौन हूँ!
तू कौन है, मैं कौन हूँ!

है मोड़ फिर एक नया, अब मौत मेरी हमसफ़र
पर चलेगा रास्ता, और चलता जायेगा
होगा नयी राह में, 'राही' तुझसे रू-ब-रू
तू कौन है, मैं कौन हूँ!
तू कौन है, मैं कौन हूँ!

english :

o zindagi is dil tale , sawaal hain kai ankahe
jawab tere pass hain, bus waqt ki darkaar hai
ek lamha bhi mile, tujhse main ye poochlun
tu kaun hai, main kaun hun
tu kaun hai , main kaun hun!

koi kya sikhayega, koi kya batayega
kya kitabon ka likha, koi saath lekar jayega
ek kadam jo tu chale, tere saath main chalun
tu kaun hai , main kaun hun
tu kaun hai, main kaun hun!

ek pal main hans liya, ek pal main ro liya
chand palon ka saath tha, aur phir tanhaiyan
koi bhi ehsaas ho, tujhse meri guftagoo
tu kaun hai , main kaun hun
tu kaun hai , main kaun hun!

ta umr main dauda kiya, chand sikkon ke liye
kuch yun hua woh mil gaya, kya jaane mera kho gaya
ab teri talash mein, hun bhatakta ku-ba-ku
tu kaun hai, main kaun hun
tu kaun hai, main kaun hun!

ab kahan ye dil mera, khwab koi dekhta
ab kahan nazrein meri, aasmaa ko taakteen
kuch mile ya na mile, bus jaanne ki aarzoo
tu kaun hai, main kaun hun
tu kaun hai, main kaun hun!

hai modd phir ek naya, ab maut meri humsafar
par chalega raasta, aur chalta jayega
hoga nayi raah mein, 'raahi' tujhse roobaroo
tu kaun hai, main kaun hun
tu kaun hai, main kaun hun!

Tuesday, 27 April 2010

tera saath | तेरा साथ :)


 एक किनारा, एक लहर
एक ही माझी मिल जाता
हाथ बढाया था मैंने
ऐ काश वो तारा मिल जाता !

दूर नहीं है वो मुझसे
मुझको अब भी दिखता है
पा लेता उसको मैं शायद
कोई बढ़ावा मिल जाता
हाथ बढाया था मैंने
ऐ काश वो तारा मिल जाता!

था खाली ही जब घर मेरा
खाली खाली हर मंजिल
एक नगर , और एक डगर
कैसे 'राही' थम जाता
हाथ बढाया था मैंने
ऐ काश वो तारा मिल जाता!

हूँ आवारा मैं तो क्या
वो तारा भी आवारा है
जिस शब्-ए-महफ़िल में मैं बैठूं
मुझपे हंसने आ जाता
हाथ बढाया था मैंने
ऐ काश वो तारा मिल जाता!

बचपन में थी बात सुनी
वो तारा हर शब् गिरता है
मिल जाता जो साथ तेरा
तेरे दामन में गिर जाता
वो तारा मुझको मिल जाता
तेरे दामन में गिर जाता
वो तारा मुझको मिल जाता

हाथ बढाया था मैंने
ऐ काश वो तारा मिल जाता!






ek kinara, ek lehar
ek hi maajhi mil jata
haath badhaya tha maine
aey kaash woh taara mil jata

door nahi hai woh mujhse
mujhko ab bhi dikhta hai
pa leta usko main shayad
jo koi badhava mil jaata
haath badhaya tha maine
aey kaash woh taara mil jaata!

thaa khaali hi jab ghar mera
thee khaali khaali har manzil
ek nagar, aur ek dagar
kaise 'raahi' thham jaata
haath badhaya tha maine

aey kaash woh taara mil jaata!

hun awara main toh kya
woh taara bhi aawara hai
jis shab-e-mehfil mein main baithun
woh mujhpe hanse aa jaata
haath badhaya tha maine
aey kaash woh taara mil jaata!

bachpan mein thee baat suni
woh tara har shab girta hai
mil jaata jo saath tera
tere daaman mein gir jaata
woh taara mujhko mil jaata
tere daaman mein gir jaata
woh taara mujhko mil jaata.

haath badhaya tha maine
aey kaash woh taara mil jaata!